तनख्वाह के हिसाब से जिंदगी जीना भी कोई जीना है ! कैसे करें अपने सपनों को पूरा ?

तनख्वाह के हिसाब से जिंदगी जीना भी कोई जीना है ! कैसे अपने सपने पूरे करे ? 

दुनियां में ज्यादातर लोग नौकरी के भरोसे अपना जीवन दांव पर लगा देते है । और रिटायरमेंट के बाद आखिरी दिनों में भी पैसे की तंगी से जूझते रहते है।वे सुबह हड़बड़ी मे उठते हैं , जैसे तैसे सुबह की चाय कॉफी पीकर दरवाजे से बाहर दौड़ लगा देते हैं ।वे हमेशा तनख्वाह मे बढ़ोत्तरी, रिटायरमेंट प्लानिंग, मेडिकल पॉलिसी , बीमारी की छुट्टी  और बाकी सुविधाओ के बारे मे चिंतित रहते है ।

कैसे अपने सपनों को पूरा करें 

याद रखे नौकरी दीर्घकालीन समस्या का अल्पकालीन समाधान है ।जितनी जल्दी तुम तनख्वाह की जरूरत को भूल जाओगे , तुम्हारे आगे की जिंदगी उतनी ही आसान हो जाएगी ।अपने दिमाग का इस्तेमाल करो।जल्दी ही तुम्हारा दिमाग तुम्हे पैसे कमाने के दूसरे तरीके बता देगा ।

उन तरीको से तुम इस नौकरी से ज्यादा कमा लोगे। तुम ऐसी चीज देख पाओगे जो दूसरे लोग कभी नहीं देख पाते ।मौके उनकी नाक के नीचे होते हैं।  फिर भी ज्यादातर लोग  इन मौकों को कभी नहीं देख पाते ।इसका कारण यह है कि वे पैसे और सुरक्षा दूंढते रहते हैं , इसलिए उन्हें यही मिलते हैं ।

पैसे हमारे दिमाग से पैदा होता हैं
कहे की मैं इसे खरीद सकता हूं तो आपके पास खरीदने के पैसे आ जायेंगे

अपने सपने पूरे करने के लिए पहले आपको भावनात्मक मजबूती चाहिए और अपनी आदतों में बदलाव लाने होंगे  पहले खुद को दे ।डर और अज्ञान से बाहर निकले ।जब हम कहते है “मैं नहीं खरीद सकता” तो हमारा दिमाग काम करना बंद कर देता है ।इसके बजाय पूछें “मैं इसे कैसे खरीद सकता हूं ”  तो हमारा दिमाग काम करने लगता है ।

मेरा दिमाग हर रोज तेज होता जाता हैं क्योंकि मैं इसकी कसरत करता रहता हूं ।।यह कितना ज्यादा तेज होता जाता हैं , मै इसकी मदद से उतना ही ज्यादा पैसा कमा सकता हूं।मैं तुम्हे यह सिखाऊंगा की तुम्हारे पास चुनने के लिए विचारों के विकल्प होने चाहिए , ताकि तुम हड़बड़ी ने काम करने से बच सको।यह जानना की “कब कोई आदमी दिल से बोल रहा है और कब दिमाग से , किसके शब्दों ने भावनाएं छुपी हुई है और किसके शब्दों में विचार ।”

अमीर लोग हकीकत में पैसा बनाते हैं ।

 

 

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *