क्या तनख्वाह के भरोसे रहना आपके लिए जोखिम भरा काम है?

क्या तनख्वाह के भरोसे रहना आपके लिए जोखिम भरा काम है? 

दोस्तों ! जॉब के भरोसे रहना ,या तनख्वाह के भरोसे रहने मे कोई लाभ नहीं है ।इससे आप हर महीने के घर का खर्च , कर्जा , बच्चो की स्कूल फीस , हॉस्पिटल खर्च , मेडिकल के खर्चे में ही आपकी पूरी सैलरी खत्म हो जाएगी । सुरक्षित नौकरी पर विश्वास करना तो आज सबसे बड़ा जोखिम हैं।सिर्फ़ जॉब के भरोसे बैठे रहने से आप संपत्ति के स्वामी नहीं बन पाएंगे ।जॉब के साथ यदि वित्तीय शिक्षा प्राप्त करने में समय देंगे तो आप धीरे धीरे क्वाड्रेंट बी की तरफ जा सकते है ।

उन दायित्वों को खरीदना जोखिम भरा हैं , जिन्हे हम संपत्ति मान कर खरीदत हैं ।किसी कॉर्पोरेशन में सप्ताह के 40 घंटे की नौकरी करने ने भला कौन सी सुरक्षा है ?जहां शायद अगले कुछ सालों में आपकी छ्टनी ही जाए ।

 

जॉब से बाहर निकलने के उपाय 

टीवी या रेडियो पर वित्तीय समाचार सुने ।निवेश और वित्तिय शिक्षा पर लेक्चरर सुने।

मेरे विचार से बिजनेस और निवेश करने में जोखिम नहीं हैं । जोखिम तो कम शिक्षित होने में हैं ।

लंबी सोच रखे  

धन कमाना शेर को पकड़ने की तरह है

समृद्धि हासिल करने के बारे में सोचना अनिच्छुक शेर को गुपचुप तरीके से पकड़ने की तरह है ।इसकी तरफ दौड़ने और चिल्लाने से कोई फायदा नही होगा , या तो यह मुड़कर भाग जाएगा या फिर आपको मार डालेगा ।इसलिए आपको दीर्घकालीन सोच रखनी चाहिए।

छोटी मछलियों और योजनाओं को एक जैसा पकाएं

योजनाओं और छोटी मछलियों को एक जैसा पकाने की जरूरत होती हैं । कढ़ाही में डालने के बाद उन्हें अकेला छोड़ दें , वरना वे बिखर जाएंगी।उन्हें कढ़ची से न हिलाएं, वरना वे टुकड़े टुकड़े हो जाएंगे। उनके साथ छेड़खानी न करें, अपना दिमाग न बदले और बार बार हेर फेर न करें।अगर आप छेड़खानी करते रहेंगे ,तो आपको बहुत कम लाभ होगा । और इससे भी बुरी बात यह होगी की जल्दी बेचने पर ज्यादा शुल्क देने होंगे।

पैसे के लिए काम मत करो । 

सरकारी कर्मचारी आलसी चोरों का गिरोह है। ऐसा सुना होगा।खुद को सबसे पहले भुगतान करें । खुद को पैसा देने में पहला नियम यह है कि कभी कर्ज़ में मत फसों । मैं खुद को सबसे पहले पैसे देता हूं , उस पैसे को निवेश करता हूं और कर्ज देने वाले को चीखने देता हूं ।

आमतौर पर सही समय पर भुगतान कर देता हूं ।कर्ज उतारने के लिए अपनी बचत का इस्तेमाल नहीं करता,न ही उसके लिए अपने स्टॉक को बेचता हूं । इसमें बहुत ज्यादा समझदारी नहीं है।खुद को सबसे पहले पैसे दे ।दुनिया आपको इधर उधर धकेलेगी ।

 

 

 

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *