सफलता पाने के सक्सेस मंत्रा

सफलता पाने के सक्सेस मंत्रा

दोस्तो !

ये सीखे याद रखेंगे तो कभी विफल नहीं होंगे 

सफलता… हमेशा मेहनत करने वालो की तलाश में होती है .. प्रो रणदीप गुलेरिया , एम्स निदेशक

सपने देखो

बड़ा सोचो और बड़े सपने देखो। एक लक्ष्य हासिल करो फिर उससे बड़े लक्ष्य को टारगेट करोनिडर बनोनिडर बनो और न्याय के लिए लड़ो।

गलतियां करो

अगर गलतियां करना बंद करोगे तो नए रास्ते भी बंद हो जायेंगे। सोचो यदि मैं कभी असफल नहीं हुआ तो कभी सीख  भी नहीं पाऊंगा ।

सवाल पूछो

सवाल पूछोगे तो जवाब मिलेगा ।यादि सवाल ही नही पूछोगे तो किसी कों कैसे पता चलेगा की आपको क्या चाहिए ?

दिल की सुनो

तुम्हार दिल और शरीर को एक लय में लाओ। दिल की धुनों पर नाचो । उससे तुम्हारी आत्मा और मस्तिष्क में संतुलन आएगा।

आखिर तक संघर्ष करो

अज्ञान को जीवन से दूर कर दो। बदलाव के लिए पहले खुद को बदलो । उठो और अपने अधिकारों के लिए संघर्ष करो ।नया सीखने और उसे लम्बे समय तक याद रखने के लिए आजमाए जा सकते है ये वैज्ञानिक तरीके

छोटे टुकड़ों में बांटकर पूरे करे गोल । 

सही अभ्यास  ही व्यक्ति को सफलता की ओर बढ़ता है … विंस लोमबार्डी , फुटबॉल कोच

सेल्फ टेस्टिंग और नोट्स लेना होगा फायदेमंद

सक्सेस के लिए जी जान से जुट जाएं
सक्सेस पाने के लिए सोचने का तरीका बदले

विनम्रता ही व्यक्ति को “बिग” से “ग्रेट “बनाती हैं 

बड़े लोग इसलिए महान बन जाते है कि क्योंकि वे अपनी पूरी जिंदगी विनम्र बने रहने के साथ जमीन से जुड़े रहते हैं । जैसे अमिताभ बच्चन ।वे अपने सिकेटरी को छोड़ने  घर तक जाया करते थे। जबकि उनके पास बहुत से ड्राइवर थे।

जब सब कुछ छुटने लगे तब भी अपने जुनून जा हाथ थामे रहें ,यही राह दिखायेगा … लियोनेल मेसी 

चीज़े छोड़ेंगे तब ही मुकाम तक पहुंचेंगे 

समस्या का हल ढूंढने पर फोकस करें।तथ्य ही समस्या निवारण का आधार है ।

खुद पर लगे आरोप को गलत साबित करने में वक्त और ऊर्जा बर्बाद न करें । अपने निष्कर्ष  और विचार न जोड़े ।

 

अपने ज्ञान का सर्वश्रेष्ठ उपयोग करना सीखे अपने ज्ञान को व्यवस्थित करना भी जरूरी होता हैं । इस तरह एक  बेहतर व्यक्ति बनते है आप ।

शब्दों के प्रति सतर्क रहें 

अपनी बातों की जिम्मेदारी ले ।

दिल पर न ले 

आपके आसपास जो भी हो रहा है उसे पर्सनली न ले ।अगर कोई आपके साथ बुरा व्यवहार करता हैं तो वह आपके बारे में नहीं , अपने बारे में बता रहा है।आपको इसे दिल पर लेने की जरूरत नहीं है ।

दूसरो की भी अपनी सोच हैं 

टकराव की स्थिति में ध्यान रहें कि दूसरे की भी अपनी सोच हैं यूज बिल्कुल पता नहीं है कि आपने उसके बारे में क्या सोच रखा था । चीजे स्पष्ट करें ।

 

अगर आपको खुद की क्षमताओ पर यकीन नहीं है तो दूसरे कैसे करेंगे ….. प्रियंका चोपड़ा

अपनी लीडरशिप स्किल्स इंप्रूव करें 

अपनी स्किल्स शेयर करना शुरू करे

मुश्किल लोगों के साथ काम करना सीखें 

अक्सर लोग काम करने के माहौल और संवाद करने ने सिलेक्टिव हो जाते है । उन लोगो के साथ काम करने की रणनीति बनाएं जिनका व्यक्तित्व जटिल है ।

काम की आपकी पहचान है , नाम में क्या रखा है … 

यदि आप समय बर्बाद करते हैं , तो समय बाद में आपको बर्बाद कर देगा ।

अपनी वाणी पर जरा ध्यान दीजिए , नहीं तो ये एक दिन आपको ले डूबेगी … विलियम शेक्सपियर

बुद्धिमान लोग स्वयं पर संदेह करते है ।

 

 

 

 

खुद के साथ दूसरों को भी सिखाए बेहतरीन होगी लर्निंग 

हर दिन नई टेक्नोलॉजी आती जा रही है।

निराशाओ का सामना करने के लिए खुद को कैसे तैयार करेंगे आप 

जीवन में निराशाएं भी हाथ आती है । कुछ  छोटी निराशाएं होती है तो कुछ बड़ी भी होती हैं। जैसे नौकरी का छूट जाना या बीमार पड़ जाना या किसी बेहद करीबी का  साथ छूट जाना ।

खुद से सवाल करे की चिंता से क्या फायदा 

सबसे बुरा क्या हो सकता है । यह सोच ले उम्मीद कभी न छोड़े ।दुःख और पीड़ा को याद ना करें , तकलीफ और बढ़ेगी

छोटी आदतों पर ध्यान देना फायदेमंद 

गलती हुई है तो वो ऐसी साथ ही रहेगी , उसे स्वीकार करे और आगे बढ़े …. विराट कोहली  ।करके देखने से बेहतर कुछ नहीं , बस पहुंचने की हड़बड़ी नहीं होनी चाहिए।

व्यापार में सफल होना है तो शुरुआत धीमी रखे, रिस्क भी संतुलित हो।

उत्सुकता बनाए रखे ! 

कैलिफोर्निया विश्वविद्यालय की रिपोर्ट आई आधार पर ,

ये सीखने में मददगार , मेमोरी ३० फीसदी तक बढ़ती है ।जॉब मे भी मन लगा रहता है ।जीवन मे उत्सुकता बनी रहनी चाहिए ।उत्सुकता से हमारा धैर्य भी बढ़ता है। उत्सुकता के कारण लोग समाधान खोजने के लिए प्रतीक्षा करते के इच्छुक होते है ।

तैयारी हो मायने रखती है , कैरियर के आखिरी दिन तक तैयारी बंद न हो … रोजर फ़ेडरर 

यह मानने में कोई बुराई नहीं की उस दिन वो इंसान आपसे बेहतर था, जिससे आप हारे।

दबाव इंसान को निखार देता है … मैरी कॉम, बॉक्सर 

मैरी कॉम , विश्व प्रसिद्ध बॉक्सर ।

सकारात्मक हैं तो आप अपना सबसे अच्छा वर्शन कहलाएंगे …..डे नियल एच पिंक , अमेरिकी बेस्टसेलर लेखक और मोटिवेशनल स्पीकर की किताब “द पॉवर ऑफ रिग्रेट” लिखी है इसे पढ़िए ।से कहते है कि :

क्या हमारे पास ये तीन मोटिवेशन है ….

पहली है ऑटोनामी यानी जीवन के सूत्र अपने हाथो मे लेने की इच्छा ।

दूसरी है मास्टरी यानी बेहतर करने और स्किल्स विकसित करने की लगन और

तीसरी है परपज यानी जीवन जीने का मकसद ।

स्पेस देना सीखे 

यकीन मानिए जब  आप किसी को सपेस देते है तो नतीजे बेहतर साबित होते है ।किसी को ऑटो नामी देते हुए उससे काम लेना जैसे कि उसे  कोई पर्सनल प्रोजेक्ट देना या उसे डे ऑफ देते हुए किसी चीज को डेवलप करने के लिए प्रेरित करना।

ROWE यानी रिजल्ट ओनली वर्क एनवायरनमेंट ।यानी लक्ष्य एक ही है , उत्पादन को बढ़ाना ।

आप यह पढ़े

आचार्य राम चंद्र शुक्ल

गायत्री परिवार के संस्थापक और महान गुरु 

एक समय ने एक ही काम करें 

एक समय ने एक ही काम पर फोकस करे ।जीवन में उत्साह जरूरी है ।

मन मुताबिक न मिले तो भी मौके हाथ से जाने मत दीजिए , इसी से रास्ते खुलेंगे …. मणिरत्नम , फिल्म निर्देशक

लोग अक्सर अपने ही टैलेंट को नहीं पहचान पाते है ।

यदि हम खुशियां साझा नहीं करते तो यह कम हो जाती है …दलाई लामा

आप चार चीजों में अच्छे हो सकते है , पर ताकत दो पर लगाएं ... बायजू रवींद्रन , बायजूस के संस्थापक

यह विचार कितना अद्भुत है कि हमारे जीवन के सबसे अच्छे दिन आने बाकी है … एन फ्रैंक

कोशिश आखिरी सांस तक करनी चाहिए । मंजिल मिले या अनुभव , दोनो ही जिंदगी में  नई सीख दे जाते है

सबसे ज्यादा आप ही खुदको और अपनी क्षमताओं को जानते हैं।जिस दिन आप स्वयं पर संदेह करने लगते है , आपकी संभावनाएं भी खत्म होने लगती है । इसलिए खुद पर संदेह न करें ….. सुनील छेत्री, फुटबॉलर

 

 

 

 

 

 

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *